मंगलवार, 19 मई 2009

शुक्रिया , अमर उजाला


शुक्रिया , अमर उजाला , आज ' कोई मन गिरा कर तो नहीं बैठा है ' को प्रकाशित करने के लिए | ब्लॉग से ये सन्देश शायद काफी लोगों तक नहीं पहुँचा , हाँ अमर उजाला की आवाज इसे उत्तर-प्रदेश व उत्तराखंड के अधिकाँश घरों तक पहुँचाने में सक्षम है , ऐसा विश्वास है | और हाँ , आपकी निष्पक्षता का भी यकीन हो चला है , वैसे तो अपने खुदा पर ही मेरा विश्वास दृढ है कि वो जिस बात को दुनिया के सामने लाना चाहेगा उसको कोई रोक नहीं सकेगा , इसीलिये एक सब्र जैसी चीज मन ने पाल रखी है | मेरी रची वो दूसरी ही कविता थी जिसे आपने 'आखर ' में प्रकाशित किया था |


२००७ में ही जब मैं अपने इकलौते बड़े भाई जी के घर गयी थी , उन्हीं दिनों कविता लिखना शुरू किया था , तो बड़ा मन होता था कि कोई सुने भी , खास कर अपने भाई-बहन तो सुनें | उन्हें जब मैंने कवितायें सुनाईं , पढ़वाईं , उन्हों ने कुछ की तारीफ़ की , कुछ में फेर-बदल करने को कहा और फिर ये कहा कि ' शारदा , कोई अगर कविता सुनाने को न कहे तो वहाँ कविता कभी मत सुनाना '| बात तो उन्होंने जायज कही थी पर मन कहीं छन्न से टूट गया था , कवि नाम के जीव की दुनिया में इतनी बेकद्री है ! ' जहाँ न पहुँचे रवि , वहाँ पहुँचे कवि ' वाली उक्ति याद आई , उस रात नींद आँखों से दूर चली गई थी , आँसू आँख में आया पर गाल पर लुढ़कने से इन्कार करने लगा , मेरे प्यारे भाई जी की हर बात को सकारात्मक और शिक्षा-प्रद ही लेना है , ऐसा तय कर लिया | उस रात एक कविता का जन्म हुआ जिसे ' कवि ' शीर्षक से हिंद-युग्म के मई माह के पौड-कास्ट कवि-सम्मलेन में मेरी ही आवाज में सुन सकेंगे |


इस तरह मैं हर नकारात्मक बात से भी जितना सकारात्मक उठा सकती हूँ , उठा लेती हूँ , जैसे कोई ऐसी रासायनिक इक्वेशन हो जिसका फल हमेशा जोड़ में ही आना है | बस ये भी जिन्दगी जीने का एक भेद ही है |

5 टिप्‍पणियां:

अनिल कान्त : ने कहा…

badhayi ho

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत बहुत बधाई ..

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बहुत बधाई अमर उजाला में छपने के लिए. सकारात्मक सोच ही सही सोच है.

शोभना चौरे ने कहा…

jeevan ko skaratmk soch dene ke liye
dhnywad.

Abhishek ने कहा…

सही कहा आपने कि 'वो जिस बात को दुनिया के सामने लाना चाहेगा उसको कोई रोक नहीं सकेगा'. बधाई.