रविवार, 19 अप्रैल 2009

दिल जले या दिया

रात को गहराते देख रही हूँ
सुबह को उतरते देख रही हूँ
सुबह की पदचाप
इतनी चुपचाप क्यों है
उजाले की झन्कार क्यों खो गई है
सबेरे की आह्ट का जो नशा है
उसमें अपनी भी सुधबुध रहती नहीं है
जमीं से जुड़े हैं रात दिन के असर से
कितनी चुप्पी है , शोर तो बहुत है
अंधेरे में सब कुछ दिखता है काला
इस रँग पे कोई रँग चढ़ता नहीं है
रँगराज भी है भूला
चिराग जलाए बिना
कोई रँग दिखता नहीं है
उजाला मोहताज है रोशनी का
दिल जले या दिया
अपने अपने सफर की ये खुशकिस्मती है

3 टिप्‍पणियां:

vijaymaudgill ने कहा…

मेरा दिल और जिया दोनों जल रहे हैं

कितनी सादगी से कितनी गहरी बातें कह दीं
कमाल है। बहुत ख़ूब लगी आपकी रचना।

जमीं से जुड़े हैं रात दिन के असर से
कितनी चुप्पी है , शोर तो बहुत है
अंधेरे में सब कुछ दिखता है काला
इस रँग पे कोई रँग चढ़ता नहीं है

mamta narang ने कहा…

दिल जले या दिया......क्या खूब रचना लिखी है,बहुत सुन्दर

Shama ने कहा…

Shardaji,
Mere blogpe aapne dee tippaneeke liye dhanywad kehne aayee thee...lekin kaheen gum hoke badee dertak aapki rachnayen...khaaskar ye, padhatee rahee...baar, baar...dil jale yaa diya...har raushan charag ke tale andhera...yebhee ek atal saty hamesha ubharke ayaa.....
Ujalonke saath andhere na chalte,to na ujale nazar aate, naa andhere ham mehsoos kar pate...
Nahee, maine udaas hoke nahee likha...balki ek tatasth bhavse, badehee sukoonse likha...
Mere sab blogs alag, alag ho gaye hain...chahti thee ki, ekhee blogtale sab links jud jayen...par kuchh gadbadee kar dee..!
Khair, taqreeban sabhi blogs 2 IDs ke tale khulte hain....is linkpe gar aap click karengee to meree kalakrutikaa chitr dikhega...uspe "Kavita", "Kahanee"," Sansmaran","Dharohar","paridhaan"aadi blogs hain..
2 nd ID, jahan meree apnee picture hai, uspe "aajtak yahan tak", "baagwaanee","fiberart","gruhsajja","chindichindi",lizat"aadi blogs aate hain...The light by a lonely path' abhi astitv me hai, lekin uspe likh nahee rahee...is ID pe "Kavita" bhee hai, lekin, updated kavita blog "shamakavya"ke tehet hai.
Takleefke liye maafee chahti hun..
Ek aur iltija...gar aapka cel # mujhe e-maildwara dobara den to badee shukrguzaar rahungi aapki...mai filhaal mumbaime hun...no. mere cellme feed kiya tha, lekin samajh nahee paa rahee hun, ki kaise delete ho gaya!