मंगलवार, 31 अगस्त 2010

तेरी चाँदनी बटोरी हमने

किश्तों में मिली
कैसा है सिला
जिन्दगी तेरे सिवा
कोई लुभा न पाया हमें

सहराँ की तपती रेत पर
साये की हसरत लिये
टुकड़ों में धूप बटोरी हमने

दरख्त के साये में
छन-छन के आती
धूप निहारी हमने

चाँद पहलू में लिये
चाँदनी की आरजू में
यूँ रात गुजारी हमने

कैसा है सिला
किश्तों में मिली
जिन्दगी , तेरी चाँदनी बटोरी हमने

4 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

अति सुंदर रचना,
जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनायें।

मनोज कुमार ने कहा…

संवेदनशील रचना।
जन्माष्टमी के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

दरख्त के साये में
छन-छन के आती
धूप निहारी हमने...
अच्छा प्रयोग है...
या यूं कह सकते हैं-
...तपती राहों के लिए एक शजर काफ़ी है.

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं