बुधवार, 17 फ़रवरी 2010

मुँह मोड़े फिरते हैं

कल गढ़-गँगा के उसी पुल और सड़क से गुजरी , जहाँ ठीक बीस साल पहले १७ फरवरी के ही दिन मेरी दीदी ने एक सड़क हादसे में अपने प्राण गँवा दिए थे | पिछले साल चाची जी के स्वर्ग-वास के बाद तेरहवीं से एक दिन पहले जब सब लोग बैठे थे , चाची जी की बहन ने मेरी दीदी को याद किया और कहा कि जब एक्सीडेंट हुआ तो हम भी उस रुके हुए ट्रेफिक में थे , किसी आदमी ने जो एक्सीडेंट देख कर आया था , हमसे कहा कि जो मर गयी है उसका मुहँ तो भुर्ता हो गया है बिलकुल रोटी के पिछले हिस्से की तरह | ........थोड़ी देर तक मुझसे कुछ बोला न गया ....सुन्न हो गई .... अचानक मेरे अहसास बुक्का फाड़ कर रोने लगे .........मैं जैसे खुद से कह रही थी .....हाय , मेरी दीदी के सुन्दर मुस्कराते हुए चेहरे का ये हश्र ? जब मैं छोटी थी , दीदी चेन्नई से जब घर आतीं थीं मुझे उनके पास सोना अच्छा लगता था .....पता नहीं उनके बदन के पसीने की खुशबू भी मुझे आज तक याद है |
नहीं नहीं , चाची जी की बहन का कोई दोष नहीं ......इन्सान इतना मशीनी हो गया है कि उसे दूसरे की संवेदनाएँ भूल जाती हैं , वो दुर्घटना को महज एक घटना की तरह देखता है ...या शायद पढ़-लिख कर बातों को मुलायम-सभ्य तरीके से कहना आ जाता है |

दुखों के साथ मरा नहीं जाता
ज़िन्दा हैं खुले जख्मों की तरह
वक़्त के साथ होती है भरपाई
सिलाई , सिले जख्मों की तरह
कलेजा मुँह को आता है , जब जख्म
जिन्दा हो उठते हैं , उसी मन्जर की तरह
लाख चाहें जुबाँ सी लें , हूक उठती है
टूट जाते हैं शीशे की तरह
हम तो मुँह मोड़े फिरते हैं
क्यों देखें इन्हें हरे जख्मों की तरह
जो है सहेज लें
अपनी पोटली के खजाने की तरह

कम्बख्त ,
ग़मों ने बूढ़ा कर दिया
वर्ना उम्र की हिम्मत नहीं थी
हौसले से पँगा लेने की
दुखों के कसीदे गढ़ कर
अपनी ही तो हौसला अफजाई की है
बड़े सँग-दिल हैं , दुनिया से दिल-लगाई की है
ताजे-बासी जख्मों को , मरहम सी दवाई दी है

4 टिप्‍पणियां:

Mithilesh dubey ने कहा…

ओह , बेहद मार्मिक रचना लगी ।

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

शारदा जी, आदाब.
’दीदी’ के साथ पेश आया हादसा पढ़कर दुख हुआ
जिन संवेदनाओं की आपने बात की,
वो आज और ज़्यादा सिमट चुकी हैं...
...खो चुकी हैं...या सो चुकी हैं.???
शायद सही शब्द का चयन नहीं कर पा रहा हूं.
अब तो हादसे के साथ ’संख्या की जानकारी’ लेकर कर्तव्य पूरा कर लिया जाता है..
च..च..च जैसे शब्द भी ज़बान पर नहीं आते.
खैर....
दुखों के साथ मरा नहीं जाता.....
...कम्बख्त...ग़मों ने बूढ़ा कर दिया
वर्ना उम्र की हिम्मत नहीं थी...हौसले से टकराने की
इन शब्दों में...
आपने बहुत बड़ा संदेश दिया है..जीना इसी का नाम है.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कम्बख्त ,
ग़मों ने बूढ़ा कर दिया
वर्ना उम्र की हिम्मत नहीं थी
हौसले से पँगा लेने की ...

जीवन और गमों का सिलसिला बहुत पुराना है .... बहुत मार्मिक लिखा है ... आपके साथ बीते हादसे क्प जान कर दुख हुवा .. संवेदनाएँ मरती नही हैं ...

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत मार्मिक!