रविवार, 8 नवंबर 2009

सुन्दर सा ज्यों मुखड़ा कोई गुलाब का



नौ नवम्बर ०९ , आज बेटे का बीसवाँ जन्मदिन है , छोटा सा था जब माउन्ट आबू में बेटियों की राजस्थानी ड्रेस में फोटो खिचवाई थी , तो इन्हें भी कहा कि राजस्थान की पारम्परिक ड्रेस में एक फोटो खिंचवा लो ; सिर हिला कर कहने लगे कि नहीं ये नहीं पहनूंगा ,  फ़िर ख़ुद ही कहने लगे कि यहाँ पुलिस वाली ड्रेस भी है उसको पहनूँगा  ,ये फोटोग्राफ उस वक़्त का ही है।

ये कविता अमरउजाला के बच्चों वाले कॉलम के लिए लिखी थी , पर याद तो अपने ही बेटे को कर रही थी।   प्रस्तुत है .....

तू फूल है मेरे बाग़ का
सुन्दर सा ज्यों मुखड़ा कोई गुलाब का


पढ़ लिख के बन जाना
तू कोई नवाब सा


बन जाना तू प्रेम और
भाईचारे की मिसाल सा


मुश्किलों से न घबराना
सिपाही है तू जाँबाज सा


रास्ता तेरा महफूज हो
ममता की ठण्डी छाँव सा


तू मुस्कराता है , घर
खिल जाता है किसी बाग़ सा


महकाना तू दुनिया को
स्वर्ग सा , इक ख्वाब सा


बहारों को न्योता दे दिया
गुलशन को है इन्तजार सा


तू फूल है मेरे बाग़ का
सुन्दर सा ज्यों मुखड़ा कोई गुलाब का

8 टिप्‍पणियां:

Nirmla Kapila ने कहा…

बहुत सुन्दर बाल रचना है बधाई

Shilpa ने कहा…

very sweet and touching....

sada ने कहा…

बहुत ही खूबसूरत ख्‍यालों से सजी बालकविता मन को भा गई, बेटे के जन्‍मदिन की बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनायें, वह जिस क्षेत्र में भी रहे जांबाज रहे ।

M VERMA ने कहा…

बेटे के जन्‍मदिन की बहुत-बहुत बधाई
सुन्दर रचना

Udan Tashtari ने कहा…

बेटे के जन्म दिन की बहुत बधाई और इस रचना की भी बधाई.

राज भाटिय़ा ने कहा…

शारदा जी बेटे को उस के बीसवे जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई, आप को भी बधाई, सच कहूं तो कितनी खुशी होती है जब बेटा हम से भी बडा हो जाता है, ओर कविता भी बहुत सुंदर लगी, बेटा खुब तरक्की करे मां बाप के सपने पुरे करे, ओर बहुत लम्बी उम्र हो.
धन्यवाद

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

bhavnapoorna rachna ke liye hardik badhai sweekariye.
yuvraj ko hamaqri shubhkamnayen deejiyega.
bachpan ki yahi tasveere to yaadgar ban jati hai,
mere blog par padharne ke liye hardik dhanyavaad ,abhar,
sadar ,
dr.bhoopendra jeevansandarbh.blogspot.com

Ravi Rajbhar ने कहा…

Wah......bahut sunder,
laga meri maan mereliye padrahi ho..badhai ho chachi jee.
waise mai bhi chartered accountant ka student hun...