मंगलवार, 26 फ़रवरी 2019

झूल आयें सुकून की बाहें

हजारों मील का सफर ,
और बाहें फैलाए हुए दिल
कुछ रिश्ते तो हों ऐसे भी ,
के झूल आयें सुकून की बाहें

हमारी राहों में चांद उग आता ,
न दिन का पता होता न रात का
नींद से बोझिल आँखों में भी ,
सितारों सी टिमटिमाहट होती

आओ के मिलन के रंग में रंगे ,
और फिर जुदाई की खुराकें पी लें
नहीं नहीं, तरक्की की सीढ़ियां चढ़ कर ,
पतंगों सा लहरा कर उड़ लें

तुम आते हो सैंटा की तरह ,
उपहारों से लदे हर सीजन
हर चेहरे को मुस्कराहट देने ,
और वक्त को थोड़ी चाभी भरने

कोई टिप्पणी नहीं: