सोमवार, 14 मार्च 2011

वो जो रोज रोज मरते हैं

मरना मना है
वो जो रोज रोज मरते हैं
लम्हा लम्हा , ज़र्रा ज़र्रा
उसका क्या ?

कर्ज मर्ज , दँगा पँगा
नशा वशा , हर्ज तर्ज़
सौ बहाने मौत के
एक बूँद ज़िन्दगी से महरूम
बेकसी , बेचारगी , लाचारगी
कटोरा लिये हाथ में
भीख माँगे उपहारों की
सीने में जँगल झाड़ हैं
भड़के चिन्गारी दावानल सी
टूट फूट , मरम्मत होती सदियों से
निदान उपचार से बेहतर है
दो बूँद जिन्दगी की पिला
अकड़ न जाए मन कहीं
टूट कर मुर्दा हुए या नश्तर बने
जिन्दगी का रस ही आँचल बने
भूल कर भी न ठोकर लगा
सीने में मचलते अरमान हैं
तुझसे ही कई तूफ़ान हैं
दिशा दिखा , दशा बदल
जिन्दगी मेहरबान है
जिन्दगी मेहरबान है

13 टिप्‍पणियां:

इमरान अंसारी ने कहा…

वाह शारदा जी....क्या बात है.....बहुत खुबसूरत लगी ये पोस्ट.....कुछ अलग हट कर...प्रशंसनीय|

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत खूब ... शान्भाग के यथार्थ को सजीव रचना का रूप दे दिया है आपने ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सही आक्रोश झलक रहा है ...अच्छी प्रस्तुति

वन्दना ने कहा…

मरना मना है
वो जो रोज रोज मरते हैं
लम्हा लम्हा , ज़र्रा ज़र्रा
उसका क्या ?

इसी का किसी के पास जवाब नही है क्योंकि सांस तो ले रहे है वो फिर चाहे हर सांस उधार की ही क्यों न हो…………बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

Sunil Kumar ने कहा…

मरना मना है
वो जो रोज रोज मरते हैं
लम्हा लम्हा , ज़र्रा ज़र्रा
उसका क्या ?
बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

Udan Tashtari ने कहा…

उम्दा चित्रण..

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति। धन्यवाद|

Kailash C Sharma ने कहा…

मरना मना है
वो जो रोज रोज मरते हैं
लम्हा लम्हा , ज़र्रा ज़र्रा
उसका क्या ?

बहुत यथार्थपरक...सुन्दर और भावपूर्ण रचना..

kshama ने कहा…

भूल कर भी न ठोकर लगा
सीने में मचलते अरमान हैं
तुझसे ही कई तूफ़ान हैं
दिशा दिखा , दशा बदल
जिन्दगी मेहरबान है
जिन्दगी मेहरबान है
Rachana me zabardast aakrosh bhee haihi...lekin ant kitna sakaratmak hai! Wah!

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

टूट कर मुर्दा हुए या नश्तर बने
जिन्दगी का रस ही आँचल बने
भूल कर भी न ठोकर लगा
सीने में मचलते अरमान हैं...

वाह वाह वाह.

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत भावमयी सुन्दर रचना

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

'क़र्ज़ मर्ज़ ,दंगा पंगा
नशा वशा,हर्ज तर्ज़
सौ बहाने मौत के '

जिंदगी की तल्ख़ सच्चाई से, बड़े सलीके से रूबरू करने में सक्षम .....सुन्दर रचना

kshama ने कहा…

Holee kee dheron shubhkamnayen!