शुक्रवार, 16 मार्च 2018

आँखों में सितारे भर


चिया चली गई ससुराल
आँखों में सितारे भर ,
लहँगा पहन ,चुनरी ओढ़ ,
डाल कर उसके हाथों में हाथ
सोचा भी बहुत था ,
लिखा भी था
बोला मगर कुछ भी न गया
न तो गाये विदाई के गीत
न ही सुनाये स्वागत के बोल ,जो मुस्कराये मनमीत
रुँधे गले से जो भी सुनाती
उतर आता सावन तेरी अँखियों में
और तेरी तकलीफ मुझे गवारा न होती

उसी दिन विदा हो जाते हैं बच्चे घर से ,
जिस दिन पढ़ाई या जॉब के लिए घर छोड़ जाते हैं
मगर ये बदलाव तो बहुत बड़ा है
अब न वो बचपन का घर होगा
नई नई सी फिजा होगी
अब बदल गया है तुम्हारा पता

छुट्टियों में तुम्हारी मन्जिल होगी पिया का घर
इक पल उदास होती हूँ
तो दूसरे ही पल मुस्कराने लगती हूँ
इस दिन के लिए तो तैयार रहना था मुझको
अपने घर में तू चहकती मिले
कलीरों के लश्कारों सा तेरा जहाँ चमके

माँ के अँगना की छाँव तो हमेशा से तुम्हारी है
घर-द्वार हमेशा स्वागत में रहेंगे
ये पल , ये लम्हें यादों में बस जायेंगे
सीने में तुम अक्सर यूँ ही मुस्कराओगी
चूड़ा पहने ,कलीरे छनकाती ,ज़िन्दगी की नई शुरुवाद करतीं

2 टिप्‍पणियां:

Dhruv Singh ने कहा…

निमंत्रण

विशेष : 'सोमवार' १९ मार्च २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीया 'पुष्पा' मेहरा और आदरणीया 'विभारानी' श्रीवास्तव जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।

अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

Dhruv Singh ने कहा…

निमंत्रण

विशेष : 'सोमवार' २१ मई २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने साप्ताहिक सोमवारीय अंक के लेखक परिचय श्रृंखला में आपका परिचय आदरणीय गोपेश मोहन जैसवाल जी से करवाने जा रहा है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।