सोमवार, 4 अगस्त 2014

जीवन की भागम-भाग में , कभी सुना ही नहीं

तन्हाई अक्सर बातें करने लगती है 
मन्दिर के गूँजते हुये घण्टों की आवाजें 
मस्जिद से अज़ान की आवाज 
दूर फ्लैट्स में होते हुये मैच की आँखों देखी कमेन्टरी की आवाज 
भर देती मुझमें एक अन्त-हीन उदासी 
जलसे के लिये सजते इन्तजाम देख कर लगता कि 
कुछ वक्त की सजावट है 
अगले दिन का उजड़ा चमन किसने देखा 
और चौराहे पर जैसे कब्रिस्तान रख दिया गया हो 
तन्हाई अक्सर पैरों में बेड़ियाँ डाल देती 
मन बड़ा काइयाँ होता है 
इसे जिधर जाने से रोको , उधर ही जाता है 
निराशा वो मन्जर भी दिखलाती है , जो वैसे दिखते ही नहीं 
मन ने ये सब सूँघ लिया 
जिसे जीवन की भागम-भाग में मैंनें कभी सुना ही नहीं था 
दुख भी सार्थक है , जो सिखला जाता है 
कि जीवन कर्म और प्रेरणा के बिना अर्थ-हीन है। 

1 टिप्पणी:

BLOGPRAHARI ने कहा…

आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
मोडरेटर
ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क